Latest Updates

Showing posts with label Management प्रबंधन. Show all posts
Showing posts with label Management प्रबंधन. Show all posts

Warehouse inventory Management | inventory Management system

September 16, 2020

Warehouse Inventory management is very important for any warehouse or company. This is what controls your warehouse stock or inventory. If you handle any type of material stock, then it is very important to have knowledge of inventory management.

What is Warehouse Inventory Management?


Warehouse Inventory management or works like "inventory checking" or "stock checking". It performs physical verification of the quantity and condition of materials placed in a warehouse or store or in a business. And this is also done to provide an audit of the current stock. It is also a source of stock discrepancy information.

Inventory checking is done at the end of the one-day and annual, financial year. Stock list cycle is done continuously through count. Typically used by the end of the financial year for use in the company's financial statements. This is often done in the presence of external auditors. External auditors also audit financial statements.

Warehouse Inventory Management Material's Regular Counts are also carried out, in which usually Inexpensive items are taken and the bestselling materials are also taken, priority is given in a short duration to take stock of High sale and Inexpensive Materials.

Stock list is designed on the basis of how much the sale of stock has happened in the last season. This makes the task of taking stock list easy.

There is also another purpose of stock checking which gives information about what was the stock position of the company / organization at a specific point.

However, such stock taking is often done by the organization's employees and also by the Service Provider who come from days to weeks. And Managed by Inventory.

There are three module of inventory management which is mostly used for warehouse inventory management in warehouse.

  • Physical inventory Verification(PIV)
  • Perpetual inventory
  • Cycle Count Inventory

Physical inventory Verification (PIV)

Physical inventory is a process where a business counts its entire inventory physically. Business Management counts the material list of its stock so that component parts or raw material or salable parts can be re-installed.

Businesses use many different strategies to reduce the interruption in physical inventory. Inventory devises tools like More Manpower and Automation (SAP-ERP) to quickly count stocks and reduce time to business shut down.

Inventory control system software SAP -ERP CRM etc.helps in making physical inventory process very fast and easy.

A continuous inventory tracks the receipt and use of the inventory system, and calculates the quantity.

Cycle count is an option of physical inventory which is less disruptive. You will understand this further.

perpetual inventory

Perpetual inventory- The daily stock count or continuous inventory of any business has been considered as part of the Perpetual inventory systems where the quantity and availability information of the inventory is updated on a continuous basis as a function of doing business.

This is usually accomplished by connecting inventory systems to order entry and retail off sale system. In this case, the book list and the actual list are almost the same.

In earlier times, non-continuous or periodic inventory systems were more prevalent. Starting in the 1970s, digital computers enabled the ability to implement a perpetual inventory systems.


This has been made easy by bar coding and more recently Radio frequency identification (RFID) labeling, which allows for quick reading and processing of Inventory information by transactional processing by computer systems.

There is still a hurdle in making the Perpetual inventory system Permanent in which these sensitive causes are such as: theft, breakage, scanning errors or untrained inventory movements. Which is part of the Replenishment System errors.

Inventory start is usually like this Physical Stock List + Receipts Stock list - Shipment Stock list = Inventory Complete. The accountant then adds or decreases the value using Adjustment Entry, although the Invoice and transaction of all Purchase Materials and Shipment Materials are captured.

Cycle Count Inventory

A cycle count is an Inventory auditing process, which falls under Inventory management, where a small Subset (list) of Inventory stock at a specific location is counted on A specified day. The cycle count works in contrast to the traditional physical inventory.

All items are counted at once by closing the operation of a business or warehouse to do physical inventory. At the same time cycle count is also done during daily operation which helps in inventory accuracy and process execution and it is also important for concentrating on items with high value, high protest volume or for business processes.

 However some say that the counting of cycle count should only be done with high accuracy.

 Cycle counting is a means of achieving and maintaining a high degree of accuracy. Procedures inventing control are specific procedures for using cycle count to quickly identify the root causes of problems. And then monitor effectively to eliminate root causes.

In fact, control procedures cannot be made reliable without conducting traditional inventory audit.

 Cycle count This is an Enough method to identify root causes of Inventory errors. Conversely, identifying root causes, working on actions to eliminate them, is included.

Summarize

Warehouse inventory management entails stock control of a company and meeting various stock demands. Warehouse inventory management orders for purchases to maintain supply so that stocks are balanced. Warehouse inventory management works with all departments. 

It is very important to have warehouse inventory management as these goods keep an eye on inward and outward and warehouse stock together.Warehouse inventory management team or equipment It will depend on the size and work of the warehouse.


If your warehouse does not have inventory?
The material untraceable will increase day by day. and your warehouse will gradually become like a scrap yard, So you should focus on warehouse inventory and manage it well.

You can also see it:

You can follow me on Facebook page and join my group.

Facebook Page :  Facebook Group


प्रबंधन के कार्य क्या है? ।what is Management function in Hindi?

February 28, 2020
प्रबंधन के कार्य क्या है? । what is Management function in Hindi?


प्रबंधन के कार्य क्या है? । what is Management function in Hindi?
www.businessesmanagement.com
Management-प्रबंधन के 4 चार प्रमुख function है इस function को अलग करना सुविधाजनक हो सकता है लेकिन ये function एक दूसरे में मिश्रित होते हैं और प्रत्येक अन्य के प्रदर्शन को प्रभावित करता है।
  1. Planning - योजना 
  2. Organizing - आयोजन 
  3. Directing/ delegating- निर्देशन / प्रतिनिधि करना/Staffing - स्टाफिंग  
  4. Controlling - को नियंत्रित करना


Planning – योजना।

Planning यह प्रबंधन का प्रमुख कार्य है। योजना पहले से यह तय करता है की - क्या करना है, कब करना है और कैसे करना है। यह दर्शाता है की हमारा उद्देश्य कहा पहुंचने का है।

एक योजना भविष्य की कार्रवाई है। यह समस्या को हल करने और निर्णय लेने में एक अभ्यास की तरह है।

Planning लक्ष्यों को पूरा करने के लिए पहले से निर्धारित तरीका और साधन और साधनों के बारे में एक व्यवस्थित सोच है। 

मानव और गैर-मानव संसाधनों के Properउपयोग को सुनिश्चित करने के लिए योजना आवश्यक है। यह सब Comprehensive है, यह एक Intellectual गतिविधि है और यह भ्रम, अनिश्चितताओं के जोखिम से बचने आदि में भी हमारी मदद करता है।

Organizing - आयोजन। 

(Organizing) आयोजन यह किसी भी Organization के लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए Physical, Financialऔर Human resources को एक साथ लाने और उनके बीच Production relationship Developed करने का एक process है।

हेनरी फेयोल के अनुसार। " एक व्यवसाय को systematic करने के लिए और अपने कामकाज में उपयोग की जाने वाली सभी चीज़ों के साथ करना Organize करना होता है अर्थात् material, equipment, Capital and manpower”। 

एक व्यवसाय को व्यवस्थित करने के लिए Organizational Structure बनाना होता है । एक प्रक्रिया के रूप में कुछ आयोजन यहाँ दिए गए है :


  • गतिविधियों की पहचान -Identification activities
  • गतिविधियों के समूहीकरण का वर्गीकरण -Classification of activities grouping
  • कर्तव्यों का निरूपण-Formulation of duties
  • अधिकार का प्रत्यायोजन और उत्तरदायित्व का निर्माण-Delegation of authority and creation of responsibility
  • संबंधों में अधिकार और जिम्मेदारी को संतुलित करना-Balancing rights and responsibilities in relationships
Directing-निर्देशन।

यह (Managerial) प्रबंधकीय कार्य का वह हिस्सा है जो "संगठनात्मक उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए" "कुशलतापूर्वक कार्य करने के लिए" संगठनात्मक तरीकों को Active करता है। 

यह enterprise की जीवन चिंगारी माना जाता है जो लोगों की action को गति देता है क्योंकि Planning, organizing सिर्फ कर्मचारी को काम करने के लिए तैयार करते है।

Directing के बिना कर्मचारी नहीं कर सकते काम। Directing संगठनात्मक लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए सही मार्गदर्शन देने , पर्यवेक्षण करने के लिए होते है। Directing में निम्नलिखित तत्व हैं:

  • पर्यवेक्षण -Supervision
  • प्रेरणा-Inspiration
  • नेतृत्व-Leadership
  • संचार-Communications

(Supervision) पर्यवेक्षण का तात्पर्य है कि वे अपने वरिष्ठों द्वारा दिए गए Subordinates के काम की देखरेख करते हैं। यह काम और workers को देखने और Directed करने का कार्य है।

(Inspiration) अभिप्रेरण का अर्थ है प्रेरणा को प्रेरित करना या सकारात्मक नकारात्मक कार्य करने के लिए उत्साह के साथ Subordinates को प्रोत्साहित करना, इस उद्देश्य के लिए आर्थिक या Non topical प्रोत्साहन का उपयोग भी किया जा सकता है।

(Leadership) नेतृत्व को एक process के रूप में Defined किया जा सकता है जिसके द्वारा प्रबंधक Desired direction में Subordinates के कार्य को निर्देशित और प्रभावित करता है।


(Communications) संचार एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक सूचना के अनुभव, राय आदि को पारित करने की प्रक्रिया है। यह समझ का एक पुल है।


controlling -नियंत्रित करना। 

(controlling ) इसका मतलब है कि संगठनात्मक लक्ष्यों की उपलब्धि को हमेशा सुनिश्चित करना। controlling को नियंत्रित करने का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि सब कुछ standards के According हो।
" Koontz और O’Donnell के अनुसार, controlling व्यापार के उद्देश्यों और योजनाओं को पूरा और सुनिश्चित करने लिए और Subordinates के प्रदर्शन और Activities की measurement और सुधार को नियंत्रित करना होता है ”। इसलिए नियंत्रण के निम्नलिखित चरण हैं:

  • मानक प्रदर्शन की स्थापना -Standard display setting
  • वास्तविक प्रदर्शन का मापन-Measurement of actual performance
  • standards Process के साथ Original performance की तुलना करना और यदि कोई सुधारात्मक कार्रवाई हो तो Problem का पता लगाना होता है।

प्रबंधन क्या है? -What is Management in Hindi?

February 28, 2020
प्रबंधन क्या है? -What is Management in Hindi?

 प्रबंधन क्या है? -What is Management in Hindi?


Management का अर्थ है - उपलब्ध संसाधनों का Efficiently तथा Effective तरीके से उपयोग करते हुए लोगों के कार्यों में Coordination करना ताकि लक्ष्यों की प्राप्ति को सुनिश्चित की जा सके। 

प्रबन्धन के अन्तर्गत आयोजन (planning), संगठन-निर्माण (organizing), स्टाफिंग (staffing), का नेतृत्व करना (leading या directing), तथा संगठन अथवा पहल का नियंत्रण करना आदि आते हैं। 

संगठन भले ही बड़ा हो या छोटा, लाभ के लिए हो अथवा गैर-लाभ वाला, सेवा प्रदान करता हो अथवा manufacturer, प्रबंध सभी के लिए आवश्यक है। प्रबंध इसलिए आवश्यक है कि व्यक्ति सामूहिक उद्देश्यों की पूर्ति में अपना श्रेष्ठतम योगदान दे सकें। प्रबंध में पारस्परिक रूप से संबंधित वह कार्य सम्मिलित हैं


Theoretical उद्देश्यों के लिए प्रबंधन के कार्य को अलग करना सुविधाजनक हो सकता है लेकिन व्यावहारिक रूप से ये फ़ंक्शन एक दूसरे में Mixed होते हैं और प्रत्येक काम अन्य के  काम का प्रदर्शन को प्रभावित करता है।

प्रबंध उद्देश्य।

जैसा की हमने ऊपर में बताया है की किसी भी संगठन के कुछ मुख्य उद्देश्य होते हैं जिनके कारण उसका अस्तित्व है। 

यह उद्देश्य सरल एवं स्पष्ट होने चाहिएँ। प्रत्येक संगठन के उद्देश्य भिन्न होते हैं। उदाहरण के लिए एक फुटकर दुकान का उद्देश्य बिक्री बढ़ाना हो सकता है लेकिन ‘Society of India’ का उद्देश्य विशिष्ट आवश्यकता वाले बच्चों को शिक्षा प्रदान करना है।
 प्रबंध संगठन के विभिन्न लोगों के प्रयत्नों और उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए प्रबंध सबको एक सूत्र में बाँधता है।

प्रबंध सर्वव्यापी है- Management is universal. 

 संगठन चाहे आर्थिक हो या सामाजिक या फिर राजनैतिक, प्रबंध की क्रियाएँ सभी में समान हैं। एक पेट्रोल पंप के प्रबंध की भी उतनी ही आवश्यकता है जितनी की एक अस्पताल अथवा एक विद्यालय की है। 

भारत में प्रबंधकों का जो कार्य है वह यू- एस- ए-, जर्मनी अथवा जापान में भी होगा भले ही उनके करने तरीका अलग होगा। यह भिन्नता भी उनकी संस्कृति, रीति-रिवाज एवं इतिहास की अंतर के कारण हो सकती है।


प्रबंध एक सामूहिक क्रिया है- Management is a collective action.

संगठन भिन्न-भिन्न आवश्यकता वाले अलग- अलग प्रकार के लोगों का समूह होता है। समूह का प्रत्येक व्यक्ति संगठन में किसी न किसी अलग उद्देश्य को लेकर सम्मिलित होता है लेकिन संगठन के सदस्य के रूप में वह संगठन के समान उद्देश्यों की पूर्ति के लिए कार्य करते हैं।

 इसके लिए एक टीम के रूप में कार्य करना होता है एवं व्यक्तिगत प्रयत्नों में समान दिशा में समन्वय की आवश्यकता होती है। इसके साथ ही आवश्यकताओं एवं अवसरों में परिवर्तन के अनुसार प्रबंध सदस्यों को बढ़ने एवं उनके विकास को संभव बनाता है। 


प्रबंध कुछ उद्देश्यों को पूरा करने के लिए कार्य करता है। उद्देश्य किसी भी क्रिया के अपेक्षित परिणाम होते हैं। इन्हें व्यवसाय के मूल प्रयोजन से प्राप्त किया जाना चाहिए।

 किसी भी संगठन के भिन्न-भिन्न उद्देश्य होते हैं तथा प्रबंध को इन सभी उद्देश्यों को प्रभावी ढंग से एवं दक्षता से पाना होता है। उद्देश्यों को संगठनात्मक उद्देश्य, सामाजिक उद्देश्य एवं व्यक्तिगत उद्देश्यों में वर्गीकृत किया जा सकता है।

संगठनात्मक उद्देश्य-Organizational objectives

प्रबंध किसी भी संगठन उद्देश्यों के निर्धारण एवं उनको पूरा करने के लिए उत्तरदायी होता है। इसे सभी क्षेत्रें के अनेक प्रकार के उद्देश्यों को प्राप्त करना होता है तथा सभी हितार्थियों जैसे-अंशधारी, कर्मचारी, ग्राहक, सरकार आदि के हितों को ध्यान में रखना होता है। 

किसी भी संगठन का मुख्य उद्देश्य मानव एवं भौतिक संसाधनों के अधिकतम संभव लाभ के लिए उपयोग होना चाहिए। जिसका तात्पर्य है व्यवसाय के आर्थिक उद्देश्यों को पूरा करना। ये उद्देश्य हैं- अपने आपको जीवित रखना, लाभ अर्जित करना एवं बढ़ोतरी करना ।




प्रबंधन के लाभ-Management benefits


व्यवसाय के लिए इसका बने रहना ही पर्याप्त नहीं है। प्रबंध को यह सुनिश्चित करना होता है कि संगठन लाभ कमाए। लाभ उद्यम के निरंतर सफल परिचालन के लिए एक महत्त्वपूर्ण प्रोत्साहन का कार्य करता है। लाभ व्यवसाय की लागत एवं जोखिमों को पूरा करने के लिए आवश्यक होता है।




व्यक्तिगत उद्देश्य-Personal purpose



संगठन उन लोगों से मिलकर बनता है जिनसे उनका व्यक्तित्व, पृष्ठभूमि, अनुभव एवं उद्देश्य अलग-अलग होते हैं। ये सभी अपनी विविध आवश्यकताओं को संतुष्टि हेतु संगठन का अंग बनते हैं।

 यह प्रतियोगी वेतन एवं अन्य लाभ जैसी वित्तीय आवश्यकताओं से लेकर साथियों द्वारा मान्यता जैसी सामाजिक आवश्यकताओं एवं व्यक्तिगत बढ़ोतरी एवं विकास जैसी उच्च स्तरीय आवश्यकताओं के रूप में अलग-अलग होती हैं। प्रबंध को संगठन में तालमेल के लिए व्यक्तिगत उद्देश्यों का संगठनात्मक उद्देश्यों के साथ मिलाकर करना होता है।


 

Copyright (c) 2020 Businessesmanagement.com All Right Reseved

Copyright © Business Management . businessesmanagement | Distributed By Business Management Templates