Latest Updates

Showing posts with label शेयर बाजार. Show all posts
Showing posts with label शेयर बाजार. Show all posts

What is cryptocurrency? | Cryptocurrency Definition in Hindi

March 04, 2020

What is cryptocurrency? | Cryptocurrency Definition in Hindi | क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है ?

What is cryptocurrency? | Cryptocurrency Definition in Hindi | क्रिप्टोक्यूरेंसी क्या है ?
www.businessesmanagementcom

  • क्रिप्टोक्यूरेंसी (Cryptocurrency)  एक डिजिटल या Virtual Currency है जिसे Cryptography द्वारा सुरक्षित किया जाता है, जो नकली या दोहरे खर्च को लगभग असंभव बना देता है। 
Cryptocurrency decentralized नेटवर्क हैं जो ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित हैं - एक Distributed computer जो कि कंप्यूटर के एक असमान नेटवर्क द्वारा लागू किया गया है। क्रिप्टोकरेंसी की एक परिभाषित विशेषता यह है कि वे आम तौर पर किसी भी केंद्रीय Authority द्वारा जारी नहीं किए जाते है

  • एक क्रिप्टोक्यूरेंसी एक नेटवर्क पर आधारित डिजिटल संपत्ति का एक नया रूप है जो बड़ी संख्या में कंप्यूटरों में वितरित किया जाता है। यह Decentralized संरचना है क्रिप्टोकरेंसी सरकारों और केंद्रीय अधिकारियों के नियंत्रण के बिना मौजूद होने की अनुमति देती है।

शब्द "क्रिप्टोक्यूरेंसी" एन्क्रिप्शन तकनीकों से लिया गया है जो नेटवर्क को सुरक्षित करने के लिए उपयोग किया जाता है। 

ब्लॉकचैन, जो कि लेनदेन डेटा की Integrity को सुनिश्चित करने के लिए संगठनात्मक तरीके हैं, कई क्रिप्टोकरेंसी का एक Mandatory component है। 



क्रिप्टोकरेंसी एक ऐसी मुद्रा है जो कंप्यूटर एल्गोरिथ्म पर बनी होती है. यह एक स्वतंत्र मुद्रा है जिसका कोई मालिक नहीं होता. यह करेंसी किसी भी एक अथॉरिटी के काबू में भी नहीं होती. 

अमूमन रुपया, डॉलर, यूरो या अन्य मुद्राओं की तरह ही इस मुद्रा का संचालन किसी राज्य, देश, संस्था या सरकार द्वारा नहीं किया जाता. यह एक डिजिटल करेंसी होती है जिसके लिए क्रिप्टोग्राफी का प्रयोग किया जाता है. आमतौर पर इसका प्रयोग किसी सामान की खरीदारी या कोई सर्विस खरीदने के लिए किया जा सकता है.


  • एक क्रिप्टोक्यूरेंसी एक नेटवर्क पर आधारित डिजिटल संपत्ति का एक नया रूप है जो बड़ी संख्या में कंप्यूटरों में वितरित किया जाता है। यह विकेंद्रीकृत संरचना उन्हें सरकारों और केंद्रीय अधिकारियों के नियंत्रण के बाहर मौजूद होने की अनुमति देती है।


  •  शब्द "क्रिप्टोक्यूरेंसी" एन्क्रिप्शन तकनीकों से लिया गया है जो नेटवर्क को सुरक्षित करने के लिए उपयोग किया जाता है।

  • ब्लॉकचैन, जो कि लेनदेन डेटा की अखंडता सुनिश्चित करने के लिए संगठनात्मक तरीके हैं, कई क्रिप्टोकरेंसी का एक अनिवार्य घटक है।

  • कई विशेषज्ञों का मानना है कि ब्लॉकचेन और संबंधित प्रौद्योगिकी वित्त और कानून सहित कई उद्योगों को बाधित करेगी।

  •  क्रिप्टोकरेंसी को कई कारणों से आलोचना का सामना करनापड़ रहा है, जिसमें गैरकानूनी गतिविधियों के लिए उनका उपयोग, विनिमय दर में अस्थिरता और अंतर्निहित बुनियादी ढांचे की कमजोरियाँ शामिल हैं। हालांकि, उनकी Portability, विभाजन, Inflation प्रतिरोध और पारदर्शिता के लिए भी उनकी प्रशंसा की गई है।


क्रिप्टोक्यूरेंसी Cryptocurrency के लाभ।


क्रिप्टोकरेंसी एक बैंक या क्रेडिट कार्ड कंपनी जैसी विश्वसनीय तीसरे पक्ष की आवश्यकता के बिना सिर्फ दो पार्टियों के बीच सीधे धनराशि स्थानांतरित करना आसान बनाने का वादा रखती है। 
इन हस्तांतरणों को सार्वजनिक कुंजी और निजी कुंजी और प्रोत्साहन प्रणालियों के विभिन्न रूपों के उपयोग द्वारा सुरक्षित किया जाता है, जैसे कि प्रूफ ऑफ़ वर्क या प्रूफ ऑफ़ स्टेक। 



आधुनिक क्रिप्टोक्यूरेंसी सिस्टम में, एक उपयोगकर्ता के "वॉलेट," या खाते के पते में एक सार्वजनिक कुंजी होती है, जबकि निजी कुंजी केवल मालिक के लिए जानी जाती है और लेनदेन पर हस्ताक्षर करने के लिए उपयोग की जाती है। 

फंड ट्रांसफर न्यूनतम प्रोसेसिंग फीस के साथ पूरा होता है, जिससे उपयोगकर्ता वायर ट्रांसफर के लिए बैंकों और वित्तीय संस्थानों द्वारा वसूले जाने वाले शुल्क से बच सकते हैं।


क्रिप्टोक्यूरेंसी Cryptocurrency के नुकसान ।

क्रिप्टोक्यूरेंसी लेन-देन की Half-name natureउन्हें अवैध गतिविधियों की मेजबानी के लिए अच्छी तरह से अनुकूल बनाती है, जैसे कि मनी लॉन्ड्रिंग और कर चोरी। 

हालांकि, क्रिप्टोक्यूरेंसी अक्सर गोपनीयता का लाभ उठाने का समर्थन करती है, जो गोपनीयता के लाभ का हवाला देते हैं जैसे कि व्हिसलब्लोअर या दमनकारी सरकारों के तहत रहने वाले कार्यकर्ताओं के लिए सुरक्षा। कुछ क्रिप्टोकरेंसी दूसरों की तुलना में अधिक निजी हैं।

उदाहरण के लिए, बिटकॉइन अवैध व्यापार का संचालन करने के लिए एक अपेक्षाकृत खराब विकल्प है, क्योंकि बिटकॉइन ब्लॉकचेन के फोरेंसिक विश्लेषण ने अधिकारियों को अपराधियों को गिरफ्तार करने और मुकदमा चलाने में मदद की है। 

अधिक गोपनीयता उन्मुख सिक्के मौजूद हैं, हालांकि, जैसे डैश, मोनेरो या ZCash, जिन्हें ट्रेस करना अधिक कठिन है।



What is stock market? । शेयर बाज़ार क्या है

March 03, 2020

What is stock market? । शेयर बाज़ार क्या है 

What is stock market? । शेयर बाज़ार क्या है
wwwbusinessesmanagement.com

शेयर बाजार (Share Market) जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है कि शेयर का बाज़ार ठीक समझे है आप। ठीक उसी प्रकार जैसे सब्जी बाजार वहाँ सब्जी किसान लेकर बाजार में जाते है यहाँ कंपनी अपना शेयर लेकर बाजार जाते है।

अब इसमे फर्क देखने को मिल सकता है आपको सब्जी का बाजार इंडिया में या राज्य में या जिला में या गांव में कई सारी हो सकती है लेकिन शेयर का बाजार India में दो ही है । पहला (NSE) National Stock exchange और दूसरा (BSE) Bombay stock exchange. 

  • Share बाजार में निवेश के कई तरीके है। जैसे शेयर, बॉन्ड्स, डिबेंचर, म्यूचअल फंड,।प्रत्येक प्रत्येक प्रकार के निवेश के लाभ तथा उधेश्य अलग अलग होते है। निवेश के इन तरीको में शेयर बाजार में किया गया निवेश सर्बधिक लोकप्रिय और आम है ।आजकल तो इश्का चलन बहुत तेजी से बढ़ रहा है।

  • अगर शेयर को हिंदी में अनुबाद करे तो इसको- बाटना कहते है।वास्तव में यह प्रोसेस बाटने का ही होता है।दरअसल शेयर खरीदना मतलब किसी कंपनी में अपना भागीदारी खरीदने का तरीका है और हिस्सदारी बनाने के तरीके है। इस प्रकार के निवेश में कंपनी से जुड़ी फायदे में से आपको फायदा मिलता है तो दूसरी तरफ कंपनी से जुड़ी घाटे में आप को घाटे का सामना झेलना पड़ेगा।

  • कंपनी के शेयर खरीदना तथा बेचना निवेश की गतिविधियां है वह निवेशक जो किशी कंपनी का शेयर खरीद लेता है तब वो उस कंपनी का शेयर होल्डर कहलाता है। दूसरे शब्दों में शेयर की खरीदारी को equity की खरीदारी भी कहा जाता है।तो यदि आप शेयर की जगह अगर equity और Scrips सुने तो भर्मित होने की जरुरत नहीं है। क्योंकि तीनो का अर्थ एक ही है ।शेयर को हमेशा कंपनी के साथ जोड़कर देखा जाता है


शेयर की खरीद और बेचने का प्रोसेस। 


शेयर की खरीद और बिक्री दो तरीको से की जाती है। कंपनी स्टॉक एक्स्चेंज में रजिस्टर होती है और इनके शेयर स्टॉक एक्सचेंज बेचता है। 

अब आप शेयर ब्रोकर के माध्यम से स्टॉक एक्सचेंज से खरीद या बेच सकते है या डायरेक्ट डिजिटल उपकरण के माध्यम से डायरेक्ट स्टॉक्स एक्सचेंज से खरीद या बेच सकते है। 

दूसरा तरीका की आप डायरेक्ट कंपनी से भी शेयर खरीद सकते है जब कंपनी पहली बार अपना शेयर लाती है तो निवेशकों को खरीदने का मौका उपलब्ध कराती है उसकी (IPO) आईपीओ एनसीएल पुब्लिक ऑफर (Initial Public Offer) कहते है। उसके बाद आने वाला सारा ऑफर पब्लिक ऑफर कहलाते है। 

निवेशकों को खरीदने के लिए परस्तुत किये जाने वाले शेयर या तो कंपनी द्वारा जारी किए गए नए शेयर हो सकते है या कंपनी अपने हिस्से का शेयर का कुछ भाग पबलिक के लिए प्रस्तुत करती है। इस प्रकार शेयर कंपनी द्वारा आम निवेशक से पूजी उगाहने का एक ओजार है।






 

Copyright (c) 2020 Businessesmanagement.com All Right Reseved

Copyright © Business Management . businessesmanagement | Distributed By Business Management Templates